प्रेम और वसंत

April 4, 2011


घर के सामने लगे उस पेड़ को
देखा था कुछ रोज़ पहले
सूखी निष्प्राण से शाखाओं को
जैसे जीने की कोई तलब ही  नहीं थी

हर पांत सूखी थी
काँटों से भरा था उसका बदन
और छुपी थी उसमे टूटन और
दिल को चीरती से उदास चुभन

आज सुबह ऑंखें मलते
बाहर जा कर देखा तो पाया
सूखी शाखों में कुछ नवजात पत्तियां
सुर्ख रंग की, उग आई हैं

हर वर्ष, परत दर परत
बढ़ते, फैलते, पर बूढ़े होते तने में
यौवन अब भी बाकी था
ऊष्मा अब भी बाकी थी

प्रेमी वृक्ष के सीने में
कुछ थे शायद  उमड़े आज अरमान
कि, शर्मा के प्रेयसी, पत्तियों
का हुआ ये हाल  

हर वर्ष वसंत आता है
हर वर्ष - निष्प्राण, विह्वल दिखती वनस्पति
फिर सजक हो जाती है
फिर प्रेम कर बैठती है
फिर हरी भरी  हो, लहलहा जाती है

हम मनुष्य ही क्यूँ
टूटे ह्रदय को
परत दर परत सीने में दफ़न किये जाते हैं ?
क्यूं भूल नहीं जाते किसी का मुह मोड़ लेना ?
क्यूं  माफ़ नहीं कर पाते किसी के कड़वे शब्द ?

क्यों नहीं ओढ़ लेते हरियाली की चादर ?
हरीतिमा का आंचल ?
हर वसंत....
हर वसंत....
हर वसंत....


RESTLESS

15 comments:

Sanjana said...

I loved this one..so true :)

Prateek said...

कविता मुझे बोहत पसंद आई| मेरी नानीजी क घर पर लगे पीपल के पेड की याद आ गयी थी| पेड तोह रहा नहीं पर यादें जुड़ी रह गयी|

Blasphemous Aesthete said...

शायद इसका कारण हर वसंत से पहले आने वाला पतझड़ और ग्रीष्म की करारी मार है, कुछ अंधेरों में धकेलने के लिए एक टूटे हुए ह्रदय को क्या चाहिए | हर बार भूल जाता है कि ऋतुओं का क्रम यों ही नहीं बदलता, उसी तरह जैसे हर घनेरी रात के बाद सूर्योदय होता है, आशाओं का|

Blasphemous Aesthete

A Restless Mind With A Sensitive Heart! said...

Sanjana- thanks :)

Prateek :)

BA - Your words invoke so much hope dear! thanks!

RESTLESS

Jack said...

Restless,

I do not find suitable words to express what I feel. So I will just say it was not only the composition but the theme also is just too beautiful and true.

Take care

Geet said...

bahut achi kavita hai :) keep it up!!

varsha said...

Restless !
बहुत अच्छी कविता ,बहुत सुन्दर देखने का ढंग.

सीने में दफ़न बसंत, निकल सकता है पतझड़ से -
बशर्ते ग़म के घुन ने न खाया हो दिल की जड़ों को ,
और कुछ ठंडी छाँव ,दो बूँद पानी की मुकम्मल हों.

Nisheeth Ranjan said...

A great motivational poem...It reminded me these few lines..

सितम का हद से बढ़ जाना तबाही की निशानी है,
बदलते हैं सभी के दिन कहानी ये पुरानी है.

http://allboutwebsites.blogspot.com/

A Restless Mind With A Sensitive Heart! said...

Jack uncle - thanks :)

Geet - :)

VArsha - thanks dear! and wow! what lines! apke kayal ho gaye!

RESTLESS

Arpana said...

As we have not learnt the true lesson of nature-nature sheds its leaves with all that which is worthless to it. But we humen tend to stick with hurt.Cheers!

A Restless Mind With A Sensitive Heart! said...

Arpana - i know... wish we could renew ourselves on every onset of spring :)

RESTLESS

BookWorm said...

I am not a great critic when it comes to deciphering poetry.. but what i could read..and understand.. this will stand among the beautiful poems that you have posted here.. i am sure.. more poems like this will hog the space here in the coming days...

...and personally, i liked the second last stanza.. the best.. this was the highlighting aspect of this poem...

Vaish said...

Did not understand what you wrote...but I was way attracted with that bluish silhouette image! Great picture RS..

A Restless Mind With A Sensitive Heart! said...

Book worm - :) thanks :)

Vaish - oh dear... ok next time, will write a gist of any hindi work i do here. hmm, the pic... yeah i like it too :) thanks :)

RESTLESS

@nimesh said...

I just wish you write some more of hindi poems. Just amazing, I can't explain. While I was going through it, Gulazaar saab was reciting it in my mind. Felt like his style, omg

Related Posts with Thumbnails